जन्मांक   – 7  (सात ) : –  जिन बच्चों या व्यक्तियों का जन्म महीने की , 07, 16, 25, तारीख को हो उनका जन्मांक 7  सात  होता है | सूक्ष्म एवं विशेष गणना करने के लिए मूलांक निकालना चाहिए , जिसके लिए दिन, मास , वर्ष की गणना करनी चाहिए | जिन व्यक्तियों का जन्मांक 7 सात होता है  वह जातक केतु से प्रभावित रहता है | जन्मांक सात  के जातक जन्म से ही आलसी, निकम्मे एवं डीठ होते हैं तथा अपने कार्य को कल पर टालने की प्रवृति के  लोग होते हैं  | सात अंक वाले जातक उदार, बडबोले, कल्पनाओं में जीने वाले  होते हैं, तथा सभी कार्यों को अपनी गलती के कारण उलझा लेते हैं तथा भगवान भरोसे जीते हैं मगर अपनी सम्पूर्ण क्षमताओं का उपयोग नहीं करते हैं | सात मूलांक के जातक पुरुष विपरीत योनी के प्रति आकर्षण का भाव रखते हैं तथा अपनी कामेक्षा की पूर्ति के लिए अश्लील साहित्य पढ़ने  एवं सिनेमा देखने में दिलचस्पी रखते हैं |  सात अंक के जातक के व्यवसाय, बिना स्थायित्व वाले व्यवसाय  जिनमें स्थिरता नहीं हो  जैसे की वाहनों को खरीदना बेचना , साहित्य, पर्यटक गाईड, ड्राईवर की नौकरी, कोरियर का कार्य , बिजली का सामान बेचना, प्लास्टिक व्यवसाय, ज्योतिष कार्य, औषधियों की दूकान कूटनीति का कार्य आदि हो सकते हैं | सात अंक वाली स्त्रियाँ व् लड़कियों को भी विपरीत योनी के प्रति आकर्षण होता है मगर ये अपने कुल खानदान की मान मर्यादा की खातिर कभी गलत कार्य नहीं कराती हैं मगर मानसिक सम्भोग करती हैं, चरित्र के मामले में इस अंक की लड़कियों या स्त्रियों पर ऊँगली नहीं उठाई जा सकती है | इस मूलांक की स्त्रियाँ अपने पति पर पूर्ण निर्भर रहती हैं तथा किसी प्रकार का आर्थिक सहयोग नहीं कर पाती हैं | सात अंक की स्त्रियाँ एवं पुरुष दोनों के लिए बचत करना संभव नहीं हो पाता है मगर इनका किसी भी प्रकार का कार्य भी नहीं रुकता है बल्कि ये लोग कर्ज लेकर कार्य कर लेते हैं | जन्मांक सात के जातकों को छाती एवं फेफड़ों  से सम्बंधित रोगों की संभावना रहती है | 7 अंक के जातकों को गुप्तांगों के रोगों के होने की अधिक संभावना रहती है | सभी प्रकार की परेशानियों के लिए जातक को लहसुनिया  को सोने की अँगूठी में फिट करवा कर बुधवार के दिन बुध की होरा के समय पूजा घर में जाकर अँगूठी को दूध में व् गंगाजल में स्नान करवा कर केतुदेव के मंत्र “ ॐ ह्रीं केतवे नमः “ का उच्चारण १०८ बार करके अँगूठी को सिद्ध करके अनामिका उँगली में पहनना चाहिए  | 
जन्माक  सात  (7 ) के लिए अनुकूल :
समयावधि :  22  जून  से 23 जुलाई  तक का समय 
अधिष्ठाता ग्रह :  केतु  
शुभ वार :  बुधवार और शुक्रवार
तारीख  : 7   , 16 और  25  
मित्रता : मूलांक  2 और 7  वाले व्यक्ति
रंग :  सफेद, गुलाबी   
दिशा : पूर्व-दक्षिण (आग्नेय) तथा उत्तर 
रत्न  :  लहसुनिया
धातु  :  चांदी और स्वर्ण
 
जन्माक सात   (7 ) के लिए प्रतिकूल  :
समयावधि :  24  अगस्त  से  23 सितम्बर तक का समय 
अधिष्ठाता ग्रह :  – –
शुभ वार :  गुरूवार 
तारीख  : 5, 14, और 23   
मित्रता : मूलांक  4  और  8  वाले व्यक्ति
रंग :  गहरा हरा और  लाल   
दिशा : नैरुत्य और आग्नेय   
रत्न  :  पन्ना और नीलम   
धातु  : लोहा  और कांस्य 
 
.

Google+ Comments