श्री महालक्ष्मी पूजा विधि /Shri Mahalakshmi pooja vidhi

                श्री महा लक्ष्मी षोडसोप्चार पूजा विधि हम दीपावली के दिन श्री लक्ष्मी जी कि सम्पूर्ण पूजा करने के लिये पूरी विधि का वर्णन कर रहे हैं | दीपवली के दिन श्री लक्ष्मी … Read More

श्री कुण्डलिनी चालीसा

                    श्री कुण्डलिनी चालीसा सिर सहस्त्रदल कौ कमल , अमल सुधाकर ज्योति | ताकि कनिका मध्य में , सिंहासन छवि होति || शांत भाव आनंदमय , सम चित विगत विकार | … Read More

sundarkand (सुन्दरकाण्ड)

Ramayan

          दोहा सहज सूर कपि भालु सब पुनि सिर पर प्रभु राम। रावन काल कोटि कहुँ जीति सकहिं संग्राम ॥55 ॥ चौपाई राम तेज बल बुधि बिपुलाई। सेष सहस सत सकहिं न गाई ॥ सक सर … Read More

sundarkand (सुन्दरकाण्ड)

Ramayan

          दोहा रावन क्रोध अनल निज स्वास समीर प्रचंड। जरत बिभीषनु राखेउ दीन्हेउ राजु अखंड ॥49क ॥ जो संपति सिव रावनहि दीन्हि दिएँ दस माथ। सोइ संपदा बिभीषनहि सकुचि दीन्हि रघुनाथ ॥49ख ॥ चौपाई अस प्रभु … Read More

sundarkand (सुन्दरकाण्ड)

Ramayan

          दोहा सरनागत कहुँ जे तजहिं निज अनहित अनुमानि। ते नर पावँर पापमय तिन्हहि बिलोकत हानि ॥43 ॥ चौपाई कोटि बिप्र बध लागहिं जाहू। आएँ सरन तजउँ नहिं ताहू ॥ सनमुख होइ जीव मोहि जबहीं। जन्म … Read More

सुन्दरकाण्ड (sundarkand)

Ramayan

          दोहा काम क्रोध मद लोभ सब नाथ नरक के पंथ। सब परिहरि रघुबीरहि भजहु भजहिं जेहि संत ॥38 ॥ चौपाई तात राम नहिं नर भूपाला। भुवनेस्वर कालहु कर काला ॥ ब्रह्म अनामय अज भगवंता। ब्यापक … Read More

Sundarkand (सुन्दरकाण्ड)

Ramayan

          दोहा निमिष निमिष करुनानिधि जाहिं कलप सम बीति। बेगि चलिअ प्रभु आनिअ भुज बल खल दल जीति ॥31 ॥ चौपाई सुनि सीता दुख प्रभु सुख अयना। भरि आए जल राजिव नयना ॥ बचन कायँ मन … Read More

sundarkand (सुन्दरकाण्ड)

Ramayan

          दोहा हरि प्रेरित तेहि अवसर चले मरुत उनचास। अट्टहास करि गर्जा कपि बढ़ि लाग अकास ॥25 ॥ चौपाई देह बिसाल परम हरुआई। मंदिर तें मंदिर चढ़ धाई ॥ जरइ नगर भा लोग बिहाला। झपट लपट … Read More

Sundarkand (सुन्दरकाण्ड)

Ramayan

          दोहा कछु मारेसि कछु मर्देसि कछु मिलएसि धरि धूरि । कछु पुनि जाइ पुकारे प्रभु मर्कट बल भूरि  ॥18 ॥ चौपाई सुनि सुत बध लंकेस रिसाना। पठएसि मेघनाद बलवाना  ॥ मारसि जनि सुत बाँधेसु ताही। … Read More

sundarkand (सुन्दरकाण्ड)

Ramayan

          दोहा कपि के बचन सप्रेम सुनि उपजा मन बिस्वास । जाना मन क्रम बचन यह कृपासिंघु कर दास ।। 13 ।। चौपाई हरिजन जानि प्रीति अति गाढ़ी । सजल नयन पुलकावलि बाढ़ी ।। बूड़त बिरह … Read More