श्री कुण्डलिनी चालीसा

                    श्री कुण्डलिनी चालीसा सिर सहस्त्रदल कौ कमल , अमल सुधाकर ज्योति | ताकि कनिका मध्य में , सिंहासन छवि होति || शांत भाव आनंदमय , सम चित विगत विकार | … Read More

कुण्डलिनी शक्ति जाग्रत करने के लाभ

कुण्डलिनी शक्ति जाग्रत करने के लाभ  :-   कुण्डलिनी  शक्ति जागरण विधा अन्धकार को दूर करने का सशक्त माध्यम है। स्यंव को समझने व् दूसरे को पहचानने व् घर परिवार समाज और ब्रहमांड को समझने का मार्ग है ।कुण्डलिनी शक्ति जागरण चारों … Read More

Sahastraar Chakra

कुण्डलिनी शक्ति :-  सहस्त्रार चक्र :    सहस्त्रार चक्र : रंग : बैंगनी , समबन्ध तत्व : आकाश , प्रभाव : आध्यात्मिकता , बीज मंत्र : ॐ | मस्तक के ऊपरी भाग में शिखा के ठीक नीचे तालू के ऊपर … Read More

Agya Chakra

कुण्डलिनी शक्ति :-  आज्ञा चक्र :   आज्ञा चक्र : रंग : गहरा नीला , सम्बन्ध तत्व : आकाश , प्रभाव : अतींद्रयज्ञान , बीज मंत्र : ॐ | यह चक्र दोनों भोहों के मध्य स्थित है | इसका स्थान … Read More

Vishuddh Chakra

कुण्डलिनी शक्ति :-  विशुद्ध चक्र :   विशुद्ध चक्र : रंग : आसमानी , सम्बन्ध तत्व : आकाश , प्रभाव : वाकपटुता , बीज मंत्र : हं | यह चक्र कंठ के पीछे और सुषुम्ना नाडी में , रीढ़ के … Read More

Anahat Chakra

कुण्डलिनी शक्ति :-  अनाहत चक्र :   अनाहत चक्र : रंग : हरा , सम्बन्ध तत्व : वायु , प्रभाव : प्रेम , बीज मंत्र : यं | वक्ष स्थल के मध्य और ह्रदय के निकट इस चक्र का स्थान … Read More

Manipur Chakra

कुण्डलिनी शक्ति :-   मणिपुर चक्र :   मणिपुर चक्र : रंग : पीला , सम्बन्ध तत्व : अग्नि , प्रभाव : शक्ति , बीज मंत्र : रं | यह चक्र नाभि मूल, नाभि से थोडा ऊपर स्थित होता है … Read More

Swadhishthaan Chakra

कुण्डलिनी शक्ति :- स्वाधिष्ठान चक्र :   स्वाधिष्ठान चक्र : रंग : नारंगी , सम्बन्ध तत्त्व : जल, प्रभाव : इच्छाएं , बीज मंत्र : बं | यह नाभि से लगभग तीन इंच नीचे की तरफ होता है | मूलाधार चक्र से … Read More

Moolaadhar chakra

कुण्डलिनी शक्ति :- मूलाधार चक्र :    मूलाधार चक्र : रंग – लाल , सम्बन्ध तत्त्व : पृथ्वी, प्रभाव : सुरक्षा सम्बन्धी, बीज मंत्र : लं , | यह चक्र पुरुषों में मेरुदंड के सबसे नीचे तथा गुदा के समीप रीढ़ … Read More